Digital clock

शनिवार, 24 अप्रैल 2010

बीबीसी हिंदी से साभार -

नीलाम किए गए 'हिटलर' के बनाए चित्र
चित्र
नीलामी करने वाले समूह का दावा है कि ये हिटलर का बनाया चित्र है
इंग्लैंड में 21 ऐसे चित्रों की नीलामी हुई है जिनके बारे में बताया जा रहा है कि इन चित्रों को तनाशाह शासक हिटलर ने बनाया था.

यह नीलामी दक्षिण पश्चिमी इंग्लैंड के एक कस्बे में हुई जहाँ इन सभी 21 चित्रों के लिए एक करोड़ रूपए से भी ज़्यादा की बोली लगी.

इनमें से 19 चित्र पानी के रंगों से बने हैं जबकि दो स्केच हैं. नीलामी का आयोजन करने वालों ने बताया कि ये चित्र बेल्जियम के एक फॉर्म हाउस से मिल हैं.

नीलामी आयोजित करने वाले समूह जेफ़्रिज़ की ओर से बताया गया है कि वो इस बात से सहमत हैं कि ये सभी चित्र हिटलर ने ही बनाए हैं.

पहले विश्व युद्ध के दौरान हिटलर एक युवा सैनिक के रूप में बेल्जियम में ही थे.

सत्यता पर शक

इन चित्रों में ग्रामीण दृश्यों और झोपड़ियों को दिखाया गया है. हालांकि इन चित्रों के इतिहास के बारे में पूरे तौर पर जानकारी उपलब्ध नहीं है.

नीलामी आयोजित करने वाले समूह जेफ़्रिज़ ने बताया कि इन चित्रों के विक्रेता ने यह स्थापित करने के सभी संभव प्रयास किए कि इन चित्रों को हिटलर ने ही बनाया था.

युवावस्था में हिटलर एक अच्छे चित्रकार के रूप में भी जाने जाते थे. उन्होंने कई स्केच और चित्र बनाए थे.

ग़ौर करने वाली बात यह है कि नीलामी के कारोबार से जुड़े कई बड़े समूह ऐसी कलाकृतियों को बेचने से बचते रहे हैं जिनके बारे में दावा किया गया हो कि उन्हें हिटलर ने बनाया था.

5 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    उत्तर देंहटाएं
  3. कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

    धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

    कलम के पुजारी अगर सो गये तो

    ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

    उत्तर देंहटाएं
  4. Swaagat hai, par ek nivedan hai.... kripayaa callage ke sthaan par
    college likhane kaa kasht karen.
    Ham aapke agale blog ki pratikshaa karenge. Dhanyavaad.

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
GHAZIABAD, Uttar Pradesh, India
कला के उत्थान के लिए यह ब्लॉग समकालीन गतिविधियों के साथ,आज के दौर में जब समय की कमी को, इंटर नेट पर्याप्त तरीके से भाग्दौर से बचा देता है, यही सोच करके इस ब्लॉग पर काफी जानकारियाँ डाली जानी है जिससे कला विद्यार्थियों के साथ साथ कला प्रेमी और प्रशंसक इसका रसास्वादन कर सकें . - डॉ.लाल रत्नाकर Dr.Lal Ratnakar, Artist, Associate Professor /Head/ Department of Drg.& Ptg. MMH College Ghaziabad-201001 (CCS University Meerut) आज की भाग दौर की जिंदगी में कला कों जितने समय की आवश्यकता है संभवतः छात्र छात्राएं नहीं दे पा रहे हैं, शिक्षा प्रणाली और शिक्षा के साथ प्रयोग और विश्वविद्यालयों की निति भी इनके प्रयोगधर्मी बने रहने में बाधक होने में काफी महत्त्व निभा रहा है . अतः कला शिक्षा और उसके उन्नयन में इसका रोल कितना है इसका मूल्याङ्कन होने में गुरुजनों की सहभागिता भी कम महत्त्व नहीं रखती.