Digital clock

एम.ए. प्रथम सेमेस्टर

एम.ए. प्रथम सेमेस्टर
Course II ( Theory )
Philosophy of Art ( Indian )
Unit I
A. Philosophy of Indian Aesthetics – Sources and evaluation of aesthetic concepts.
( 15 Hours )
Unit II
A. Theory of Rasa – Alankar, Dhwani and Sadharanikaran. ( 15 Hours )
Unit III
A. Theory of Guna and Dosha ( Merit and Demerit ) ( 15 Hours )
Unit IV
A. Theory of Shadang and interrelationship literature, Visual and Performing Art.
( 15 Hours )
Unit tests : Two unit tests of 15 marks each duration of at least one hour to be conducted by
the teachers concerned. Every unit test has to be conducted after completion of two units.
Quiz / Group Discussions to be conducted by the teachers concerned ( 10 marks )
Seminar / Presentation / Project ( 10 marks )
Recommended Readings :
• Indian Aesthetics – K.C. Pandey
• Aesthetic theory of arts – Ranjan K. Ghosh
• The Hindu View of Art – Mulk Raj Anand
• Kala Darshan – Hardwari Lal Sharma
• Rasa Siddhant aur Saundarya shastra – Nirmala Jain
• Bhartiya saundrya shastra ki bhumika – Nagendra
• Kala saundarya aur samiksha – G.K. Aggarwal ( Ashok )
• Bhartiya kala saundarya – Mohan Singh Mawdi
• Christian and Oriental Philosophy of Art – A.K. Coomarswamy
• Saundarya Bodh aur Lalit Kalayein –Saroj Bhargav.
• Kala Disha - Archana

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
GHAZIABAD, Uttar Pradesh, India
कला के उत्थान के लिए यह ब्लॉग समकालीन गतिविधियों के साथ,आज के दौर में जब समय की कमी को, इंटर नेट पर्याप्त तरीके से भाग्दौर से बचा देता है, यही सोच करके इस ब्लॉग पर काफी जानकारियाँ डाली जानी है जिससे कला विद्यार्थियों के साथ साथ कला प्रेमी और प्रशंसक इसका रसास्वादन कर सकें . - डॉ.लाल रत्नाकर Dr.Lal Ratnakar, Artist, Associate Professor /Head/ Department of Drg.& Ptg. MMH College Ghaziabad-201001 (CCS University Meerut) आज की भाग दौर की जिंदगी में कला कों जितने समय की आवश्यकता है संभवतः छात्र छात्राएं नहीं दे पा रहे हैं, शिक्षा प्रणाली और शिक्षा के साथ प्रयोग और विश्वविद्यालयों की निति भी इनके प्रयोगधर्मी बने रहने में बाधक होने में काफी महत्त्व निभा रहा है . अतः कला शिक्षा और उसके उन्नयन में इसका रोल कितना है इसका मूल्याङ्कन होने में गुरुजनों की सहभागिता भी कम महत्त्व नहीं रखती.