Digital clock

बुधवार, 2 फ़रवरी 2011

आधुनिक कला


आधुनिक कला १८६० से 1970 के दशक से विस्तारित अवधि के दौरान किए जाने वाले कलात्मक कार्यों का संदर्भ देता है, और उस युग की शैली और दर्शन को दर्शाता है.[१] सामान्यतः यह शब्द अतीत की परम्पराओं को पीछे छोड़ते हुए प्रयोग करने की भावना से संबद्ध है.[२] आधुनिक कलाकारों ने देखने के नए तरीकों और सामग्रियों और कला के कार्यों की प्रवृति पर नए विचारों के साथ प्रयोग किए. कल्पनात्मकता की ओर झुकाव आधुनिक कला की विशेषता है. सबसे नवीनतम कलात्मक कला को अक्सर समकालीन कला या पश्च-आधुनिक कला कहा जाता है.
आधुनिक कला की शुरुआत विन्सेन्ट वैन गॉग़, पॉल सिज़ैन, पॉल गॉगुइन, जॉर्जेस श्योरा और हेनरी डी टूलूज़ लॉट्रेक जैसे ऐतिहासिक चित्रकारों ने की, ये सभी आधुनिक कला के विकास को महत्वपूर्ण मानते थे. २०वीं सदी की शुरुआत में हेनरी मैटिस और कई युवा कलाकारों, जिनमें पूर्व-घनवादी जॉर्जेस ब्रैक्यू, आंद्रे डेरैन, रॉल डफ़ी और मौरिस डी व्लामिंक शामिल थे, ने "जीवंत", बहु-रंगी, भाववाहक, परिदृश्य और आकार चित्रकारिता जिसे आलोचक फ़ॉविज़्म कहते थे, को पेरिस आर्ट वर्ल्ड में प्रदर्शित किया. हेनरी मैटिस के द डांस के दो संस्करणों ने उनके करियर और आधुनिक चित्रकला के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.[३] यह मैटिस के परिलक्षित कला के साथ प्रारंभिक आकर्षण को दर्शाता है: नीले-हरे रंग की पृष्ठभूमि पर आकृतियों में उपयोग किए गए बेहतरीन उग्र रंग और नृत्य कलाओं की तालबद्ध प्रस्तुति भावनात्मक और हेडोनिजम की भावनाओं को व्यक्त करता है.
प्रारंभ में टुलुज़ लॉट्रेक, गॉगुइन और 19 वीं सदी के अन्य नवप्रवर्तकों से प्रभावित पैब्लो पिकासो ने अपने पहले घनवादी पेंटिंग को सीज़ैन के इस विचार के आधार पर बनाया था कि प्रकृति के सभी चित्रण तीन ठोसों में समाहित किए जा सकते हैं: घन, गोला और शंकु. लेस डेमोइसेलस डे’एविगनन 1907 पेंटिंग के साथ, पिकासो ने नाटकीय रूप से एक नया और स्वाभाविक चित्र बनाया, जिसमें पांच वेश्याओं वाले अपरिपक्व और आदिम वेश्यालय दृश्य, का चित्रण था, हिंसक चित्रित महिला, अफ्रीकी आदिवासी मास्कों के स्मरणकारी और उनके स्वंय के घनवादी अविष्कार का चित्रण किया था. विश्लेषणात्मक घनवाद को पैब्लो पिकासो और जॉर्जेस ब्राक्यू ने संयुक्त रूप से विकसित किया था, जिसका उदाहरण १९०८ से 1912 के मध्य वायलिन और कैंडलस्टिकग, पेरिस ने दिया. विश्लेषणात्मक घनवाद, ब्राक्यू, पिकासो, फ़र्नार्ड लेगर, जुएन ग्रिस, अल्बर्ट ग्लेज़िस, मार्शल डुचैम्प और १९२० के कई अन्य कलाकारों द्वारा किए जाने वाले कृत्रिम घनवाद के बाद घनवाद की पहली स्पष्ट अभिव्यक्ति थी. कृत्रिम घनवाद भिन्न आकृतियों, सतहों, कॉलेज़ तत्वों, पेपर कॉले और कई मिश्रित विषयों को प्रस्तुत कर चित्रित किया जाता है.
आधुनिक कला की धारणा आधुनिकता से संबंधित है.[४]

अनुक्रम

 [छुपाएँ]

[संपादित करें]आधुनिक कला का इतिहास

एडवर्ड मैनट, द लंचेवन ऑन द ग्लास(ले डेजेउनर सुर ई’हर्बे), 1863, मुसी ड'ओर्से, पेरिस

[संपादित करें]19 वीं सदी की बुनियाद

एक्स्प्रेशन गलती: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "["px; ">
Multi-colored portrait of a far eastern cortesan with elaborate hair ornamentation, colorful robelike garment, and a border depicting marshland waters and reeds.
Vincent van Gogh,Courtesan (afterEisen) (1887),Van Gogh Museum
Portrait of a tree with blossoms and with far eastern alphabet letters both in the portrait and along the left and right borders.
Vincent van GoghThe Blooming Plumtree (afterHiroshige) (1887), Van Gogh Museum
Portrait of a man of a bearded man facing forward, holding his own hands in his lap; wearing a hat, blue coat, beige collared shirt and brown pants; sitting in front of a background with various tiles of far eastern and nature themed art.
Vincent van Gogh,Portrait of Père Tanguy(1887), Musée Rodin
यद्यपि यह माना जाता है कि आधुनिक मूर्तिकला और वास्तुकला का उद्धभव उन्नीसवीं सदी के अंत में हुआ था, आधुनिक चित्रकला की शुरुआत ठीक इससे पहले हुई थी.[५] आधुनिक कला के जन्म को चिह्नित करने वाली सबसे निकटतम तिथि १८६३ है,[६] इसी वर्ष एडवर्ड मेनट ने अपनी पेंटिंग ले डेजेउनर सुर इ'हर्बे की प्रदर्शनी पेरिस के सालोन डेस रेफुसे स मेँ लगाई थी. इससे पहले की तारीखेँ भी प्रस्तावित की गई हैं, जिनमेँ 1855(जिस वर्ष गुस्ताव कॉर्बेट ने द आर्टिस्ट स्टुडियो प्रदर्शित की थी) और 1784 (जिस वर्ष जेक्स-लुइस डेविड ने अपनी पेंटिंग ओथ ऑफ द होरटिल पूरी की थी) शामिल हैं.[६] कला इतिहासकार एच. हार्वर्ड अर्नासन के शब्दों में: "ये सभी तारीख आधुनिक कला के विकास को दर्शाते हैं, लेकिन इनमेँ से कोई भी पूर्ण रूप से नई शुरुआत को चिह्नित नहीं करता.... सैकड़ों वर्षों मेँ क्रमिक कायापलट हुआ है."[६]
आधुनिक कला से जुड़े विचारों का ज्ञानोदय की तलाश सत्रहवीं सदी में ही की जा सकती है.[७] उदाहरण के लिए, महत्वपूर्ण आधुनिक कला आलोचक क्लेमेंट ग्रीनबर्ग, ने इम्मानुअल कांत को "पहला वास्तविक आधुनिकतावाद" कहा था, लेकिन साथ ही यह भी कहा था कि: "ज्ञानोदय के बाहर से की गई आलोचना... . आधुनिकता के भीतर की गई आलोचना है." [८] 1789 केफ्रांसीसी क्रांति ने सदियों पूर्व कुछ प्रश्नोँ और जोरदार राजनीतिक और सामाजिक बहस के बाद आम जनता द्वारा स्वीकारी गई मान्यताओं और संस्थानों को जड़ से उखाड़ दिया. इसने कला इतिहासकार अर्नस्ट गोम्बिर्च द्वारा कहे गए वक्तव्य" आत्म-चेतना जो लोगों को अपनी शैली के भवन को चयन करने मेँ मदद करता है और जो वॉलपेपर पैटर्न का चयन करता है" को बढ़ावा मिला.[९]
आधुनिक कला के अग्रदूत रुमानीवाद, यथार्थवाद और वास्तविकता और प्रभाववाद थे. 19वीं सदी के अंत मेँ, आधुनिक कला को प्रभावित करने वाले कई अतिरिक्त आंदोलनों का उदय हुआ: जिसमें पश्च-प्रभाववाद और प्रतीकवाद शामिल हैं.
इन आंदोलनों के प्रभाव विविध थे: अनावरण से पूर्वी सजावटी कला तक, विशेष रूप से जापानी चित्रकला, टर्नर और डेलाक्रोइक्स के रंगीन अविष्कारों तक, सामान्य जीवन के चित्रण में अधिक वास्तविकता की खोज तक, जो कि जीन-फ्रांकोइस मिलेट जैसे चित्रकारों की कार्य मेँ दिखता है. यथार्थवाद के अधिवक्ता पारम्परिक शैक्षणिक कला, जिसमें सार्वजनिक और आधिकारिक प्रभाव है, के आदर्शवाद के विरोध में खड़े थे.[१०] उन दिनों के सबसे सफल चित्रकार या तो कमीशन या अपने स्वयं के काम के बड़े सार्वजनिक प्रदर्शनियों के माध्यम से कामा किया करते थे. अधिकारिक, सरकार द्वारा प्रायोजित 'चित्रकारों के यूनियन थे, जबकि सरकारें नियमित रूप से नई तीक्ष्ण और सजावटी कला की सार्वजनिक प्रदर्शनियों का आयोजन किया करते थी.
प्रभाववादियों का तर्क था कि लोग वस्तुओं को नहीं देखते हैं, बल्कि उससे परवर्तित प्रकाश को देखते हैं, और इसलिए चित्रकारों को प्राकृतिक रोशनी (खुली हवा में)कार्य करना चाहिए, न कि स्टुडियो में, और उन्हें अपने कार्य में प्रकाश के प्रभाव समाहित करना चाहिए.[११] प्रभाववादी कलाकारों ने एक समूह, सोसाइटी एनोयमे कॉपरेटिव डेस आर्टिस्ट्स पेंटर्स. स्क्ल्पचर्स, ग्रेवेरस ( "चित्रकारों, मूर्तिकारों, और उकेरकों का एक संघ") का गठन किया, जिसने आंतरिक तनावों के बावजूद, कई स्वतंत्र प्रदर्शनियों का आयोजन किया.[१२] इस शैली को अपने "राष्ट्रीय" शैली के रूप में प्राथमिकता देते हुए विभिन्न देशों के कलाकारों ने अपनाया. इन कारकों ने इस विचार को स्थापित किया कि यह एक "आंदोलन" था. ये लक्षण - कला के समकालिक कार्य करने की पद्धति की स्थापना, आंदोलन और दृश्य सक्रिय समर्थन की स्थापना, और अंतर्राष्ट्रीय अभिग्रहण - को कला के आधिनिक काल मेँ हुए कलात्मक आंदोलनों द्वारा दोहराए जाएंगे.

[संपादित करें]प्रारंभिक 20 वीं सदी

चित्र:Chicks-from-avignon.jpg
पाब्लो पिकासो लेस डेमोइसेलस ड’एविग्नन 1907, आधुनिक कला संग्रहालय, न्यूयॉर्क
चित्र:La danse (I) by Matisse.jpg
हेनरी मैटिस, द डांस आई, 1909, आधुनिक कला संग्रहालय, न्यूयॉर्क
20 वीं के पहले दशक में फले फूले आंदोलनों में फ़ॉविज़्म, घनवाद, अभिव्यक्तिवाद और भविष्यवाद शामिल हैं.
१९१० के बीच के वर्षों और प्रथम विश्व युद्ध के अंत और घनवाद की उमंग के बाद, पेरिस में कई आंदोलनों का उद्धभव हुआ. जियोर्जियो डे चिरिको जुलाई 1911 में पेरिस चले गए, जहां वे अपने भाई एंड्री (सैविनो अल्बर्टो के रूप में ज्ञात कवि) से जुड़े. अपने भाई के माध्यम से वे सालोन ड'ऑटोम्ने के जुरी सदस्यों में से एक पियरे लाप्राडे से मिले, जहां उन्होंनें अपने तीन सर्वश्रेष्ठ कलाकृतियों की प्रदर्शनी की: एंजिमा ऑफ द ओरेकल , एंजिमा ऑफ एन ऑफ्टरनून और सेल्फ-पोट्रेट . 1913 के दौरान, उन्होंने सालोन देस इंडेपेंडेट्स और सालोन द'ऑटोम्ने मेँ अपने कार्य को प्रदर्शित किया, उनके कार्य की सराहना पाब्लो पिकासोऔर गुइलॉमे एपोलिनारे और कई अन्य ने की. उनके सम्मोहक और रहस्यमय पेंटिंग को अतियथार्थवाद की शुरुआत में सहायक माना जाता है. सांग ऑफ लव 1914, डे चिकारो के प्रसिद्ध कार्यों मेँ से एक है और अतियथार्थवादी शैली के सबसे पहले उदाहरणों मेँ है, हालांकि इसे दस वर्ष पहले चित्रित किया गया था लेकिन इस आंदोलन को 1924 में आंद्रे ब्रेटन "संस्थापित" किया था.
प्रथम विश्व युद्ध ने इस चरण का अंत कर दिया, लेकिन कई कला-रोधी आंदोलनों की शुरुआत की जैसे दादा, जिसमेँ मार्शल डुचैम्प के कार्य शामिल थे, और अतियथार्थवाद. डी स्टिल्ज़ और बॉहॉस जैसे कलाकार समूहों ने कला, वास्तुकला, डिज़ाइन, और कला शिक्षा से संबंधित नए विचार विकसित किए.
अमेरिका में 1913 मेँ आधुनिक कला को शस्त्रागार शो में उन यूरोपीय कलाकारों द्वारा प्रस्तुत किया गया, जो प्रथम विश्व युद्ध के दौरान अमेरिका चले आए थे.

[संपादित करें]द्वितीय विश्व युद्ध के बाद

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद ही, अमेरिका नई कलात्मक आंदोलनों का के‍द्रीय बिंदु बना.[उद्धरण वांछित] 1950 और 1960 के दशक में कल्पनात्मक अभिव्यक्तिवाद, रंगीन पे‍टिंग, पॉप कला, ओप कला, सख्त सतही पेंटिंग, न्यूनतम कला, गीतात्मक कल्पना, फ़्लक्सस, पश्च न्यूनतमवाद, फ़ोटोवास्तविकता और विविध अन्य आंदोलनों का उद्धभव देखने को मिला. १९६० के अंत और 1970 के दशक में, पारंपरिक मीडिया पर अधिक लागत के कारण भूमि कला, प्रदर्शन कला, संकल्पनात्मक कला और अन्य कला के नए रूपों ने निरीक्षकों और आलोचकों का ध्यान आकर्षित किया था.[१३] और बड़ी स्थापनाएं और प्रदर्शन किए गए.
इस अवधि के दौरान, कई कलाकरों और वास्तुकारों ने "आधुनिक" विचार को नकार दिया और सामान्य पश्चआधुनिक चित्र बनाएं.[उद्धरण वांछित]
1970 के दशक के अंत तक, जब सांस्कृतिक आलोचकों ने "चित्रकला का अंत"(१९८१ में डगलस क्रिम्प द्वारा लिखे गए उत्तेजक निबंध का शीर्षक) पर बोलना शुरू किया, तब वीडियो कला जैसे तकनीकी प्रयोग करने वाले कलाकारों की बढ़ती संख्या के कारण नई मीडिया कला अपने आप में एक वर्ग बन गई.[१४] 1980 और 1990 के दशक में पे‍टिंग के महत्व को पुनः समझा गया, जिसका उदाहरण नव-अभिव्यक्तिवाद और आलंकारिक चित्रकला का उदय है.[१५]

[संपादित करें]कला आंदोलन और कलाकार समूह

(सूचीबद्ध प्रतिनिधि कलाकारों के साथ कालानुक्रमिक.)
आधुनिक कला

[संपादित करें]19वीं सदी

  • स्वच्छंदतावाद रूमानी आंदोलन - फ्रांसिस्को डि गोया, जे. एम. डब्ल्यू टर्नर, यूजीन डेलाक्रोएक्स
  • यथार्थवाद - गुस्तैव कॉर्बेट, कैमिली कैरट, जीन-फ़्रांसिस्को मिलेट
  • प्रभाववाद - एज़र डेगस, एडवर्ड मैनट, क्लाउड मोनेट कैमिली पिसारो, अल्फ्रेड सिस्ले
  • प्रभाववाद का बाद - जॉरजिस सीरट, पॉल सेज़ान, पॉल गॉग्युइन, विन्सेन्ट वैन गोघ, हेनरी डी टूलूज़-लॉट्रेक, हेनरी रॉज़ेओ
  • प्रतीकवाद - गुस्ताव मोर्यू, ओडिलन रेडन, जेम्स एन्सर
  • लेस नेबिस - पियरे बोनार्ड, एडॉर्ड वुइलार्ड फेलिक्स वैलोटन
  • पूर्व-आधुनिकतावादी मूर्तिकला - एरिसटाइड मैलल, अगस्त रोडिन

[संपादित करें]20 सदी की शुरूआत में (प्रथम विश्व युद्ध से पहले)

  • कला नौबढ़ और भिन्नताएं - जूगेंडस्टिल, आधुनिक शैली, आधुनिकतावाद - ऑबरे बीयर्डस्ले, अलफ़ा‍सो मुचा गुस्ताव क्लिम्ट,
  • कला नौबढ़ वास्तुकला और डिजाइन - एंटोनी गॉडी, ओटो वाग्नर, वीनर वेर्क्स्टेट, जोसेफ हॉफ़मैन, एडॉल्फ लूस, कोलोमन मोज़र
  • घनवाद - जार्ज ब्राक्यू, पैब्लो पिकासो
  • फ़ॉविज्म - आन्ड्रे डेरैन, हेनरी मैटिसे, मौरिस डे व्लामिंक
  • अभिव्यक्तिजनावाद - एगॉन शील, ऑस्कर कोकोशका, एडवर्ड मंचएमिल नोल्डे
  • भविष्यवाद - गियाकोमो बल्ला, अम्बर्टो बोकिनी, कार्लो कैर्रा
  • डाई ब्रूक - आर्नेस्ट लुडविग क्रिश्नर
  • डेर ब्लॉए रेटर - वैसिली कैंडिंस्की, फ़्रैंज मार्क
  • ओर्फ़िज़्म - रॉबर्ट डेलॉनाय, सोनिया डेलॉनाय, जैक्स विलन
  • फोटोग्राफ़ी - चित्रवाद, सीधी फोटोग्राफी
  • पश्च-प्रभाववाद - एमिली कैर
  • पूर्व-अतियथार्थवाद - जियोर्जियो डे चिरिको, मार्क चैगल
  • रूसी अवंत-गार्डे - कैसिमिर मेलेविच, नतालिया गोन्चारोवा, मिखाइल लैरीनोव
  • मूर्तिकला - पैब्लो पिकासो, हेनरी मैटिस, कॉन्स्तेनियन ब्रांकुसी
  • सिंक्रोनिज़्म - स्टैंटन मैकडोनाल्ड-राइट, मॉर्गन रसेल
  • उक्तमतावाद - विन्धम लुईस

[संपादित करें]प्रथम विश्व युद्ध से द्वितीय विश्व युद्ध तक

  • दादा - जीन आर्प, मार्सल डुचैम्प, मैक्स अर्नस्ट, फ्रांसिस पिकाबियो, कर्ट स्विटर्स
  • सिंथेटिक धनचित्रण शैली - जॉर्ज ब्राक्यू, जुआन ग्रिस, फ़ेर्नाड लेज़र, पैब्लो पिकासो
  • पिटुरा मेटाफ़िसिका - जियोर्जियो डे चिरिको, कार्लो कार्रा
  • डे स्टिज्ल - थियो वैन डज़बर्ग, पीट मोंड्रियन
  • अभिव्यक्तिवाद - एगॉन शिल, अमेडियो मोदिगिलानी, चैम सॉटिन
  • नए निष्पक्षता - मैक्स बेकमैन, ओट्टो डिक्स, जॉर्ज ग्रोस्ज़
  • आलंकारिक चित्रकारी - हेनरी माटिस, पियरे बोनार्ड
  • अमेरिकी आधुनिकता - स्टुअन डेविस, आर्थर जी डोव, मार्स्डन हार्टले, जॉर्जिया ओ'कीफ़ी
  • रचनात्मकतावाद - नॉम गाबो, {स2}गुस्ताव क्लुतसिस, टाट्लिन, लैस्ज़लो मोहोली-नागी, एल लि्स्सिट्ज़की, काश्मीर मेलेविच, वैडिन मेल्लर, अलेक्जेंडर रोड्चेन्को, व्लादिमीर टाट्लिन
  • अतियथार्थवाद - जीन आर्प, साल्वाडोर डाली, मैक्स अर्नस्ट, रेने माग्रिटी, आंद्रे मैसन, जोयन मिरो, मार्क चैगल
  • बॉहॉस - वासिल्ली कैंडिस्की, पॉल क्ली, जोसेफ अल्बर्ट्स
  • मूर्तिकला - अलेक्जेंडर काल्डर, अल्बर्टो गियाकोमेट्टी, गास्टन लैचिश, हेनरी मूर, पाब्लो पिकासो, जूलियो गोन्ज़ालेज़
  • स्कॉटिश रंगकार- फ्रांसिस कैडल, सैम्यूल पेप्लो, लेस्ली हंटर, जॉन डंकन फर्ग्यूसन
  • प्रधानतावाद - काज़िमिर मेलविच, अलेक्ज़ेंड्रा एक्स्टर, ओल्गा रोज़ानोवा नाडेझदा उदाल्तसोवा, इवान क्लियुम, ल्युबोव पोपोवा, निकोलाई सुटीन, नीना गेन्के-मेलर, इवान पुनी, सेनिया बोगुस्लावस्काया

[संपादित करें]द्वितीय विश्व युद्ध के बाद

  • चित्रकार - बर्नार्ड बुफ़े, जीन कार्ज़ॉ, मौरिस बोइटल, डैनियल डु जेनराड, क्लाउड-मैक्स लोचू
  • मूर्तिकला - हेनरी मूर,, डेविड स्मिथ, टोनी स्मिथ, अलेक्जेंडर काल्डर, इसामु नोगुची, अल्बर्टो गियाकोमेटी, सर एंथनी कारो, जीन डबफ़ेट, इसहाक विट्किन, रेने इचे, मैरिनो मारिनी, लुईस नेवेल्सन
  • अमूर्त अभिव्यक्तिवाद - विल्लेम डी कूनि‍ग, जैक्सन पोलक, हंस हॉफ़मैन, फ्रांज क्लिन, रॉबर्ट मदरवेल, स्टिल क्लाईफ़ोर्ड, ली क्रैस्नेर
  • अमेरिकी अमूर्त कलाकार - ली क्रैस्नर, इब्राम लासॉ, एड रेइनहार्ड, जोसेफ अल्बर्स, बुरगोयने डिल्लर
  • कला ब्रुत - एडॉल्फ वोल्फ़्ली, अगस्त नैटरर, फ़र्डिनांड चेवल, मैज गिल, पॉल साल्वाटोर गोल्डनग्रीन
  • आर्टे पोवेरा - जैनिस कॉनेलिस, लुसियानो फ़ैब्रो, मारियो मर्ज़, पिएरो मैन्ज़ोनी, अलिघिएरो बोएटी
  • रंग क्षेत्र चित्रकला - बार्नेट न्युमैन, मार्क रोथको, सैम फ्रांसिस, मॉरिस लुइस, हेलेन फ़्रैंकनथलर
  • टैचिस्म - जीन डबफ़ेट, पियरे सॉलागेस, हंस हार्टुंग, लुडविग मेरवार्ट
  • कोबरा - पियरे एलेचिन्स्की, कैरेल एप्पेल, अस्गर जॉर्न
  • नियो-दादा - रॉबर्ट रॉसचेनबर्ग, जैस्पर जॉन्स, जॉन चेम्बरलेन, यूसुफ बेउस, एडवर्ड कीनहोल्ज़
  • फ़लक्सस - जॉर्ज मैकिनस, एलन कैप्रो, नाम जून पैक, योको ओनो, डिक हिगिंस
  • दाउ-अल-सेट - कवि/कलाकार जोन ब्रोस्सा -एंटोनी टैपियस द्वारा वार्सिलोना में स्थापित
  • ग्रुपो एल पासो - एंटोनियो सौरा, पॅबलो सेरानो द्वा्रा मैड्रिड में स्थापित
  • ज्यामितीय मतिहीनता - वैसिली कैंडिस्की, काज़िमिर माल्विच, नादिर एफ़ोन्सो, मैनिलो रो, मारियो रैडिक, मिनो अर्जेन्टो
  • हार्ड-एज़ चित्रकला - जॉन मैकलॉफ़्लिन, एल्सवॉर्थ केली, फ्रैंक स्टेला, एल हेल्ड, रोनाल्ड डेविस
  • काइनेटिक कला - जॉर्ज रिकी, गेटुलियो एल्वियानी
  • भूमि कला - क्रिस्टो, रिचर्ड लांग, रॉबर्ट स्मिथसन, माइकल हेज़र
  • लेस ऑटोमैटिस्टेस - क्लाउड गॉवरेयु, जीन पॉल रियोपेले, पियरे गॉवरेयु, फ़र्नार्ड लेडुक, जीन-पॉल मॉस्सी, मार्शेल फ़ेर्रोन
  • न्यूनतम कला - सोल लेविट, डोनाल्ड जुड, डैन फ़्लाविन, रिचर्ड सेरा, एग्नेस मार्टिन
  • न्यूनतावाद के बाद - ईवा हेस्से, ब्रुस नॉमन, लिंडा बेन्गलिस
  • गीतात्मक अमूर्त - रोनी लैंडफ़ील्ड, सैम गिलैम, लैरी ज़ोक़्स, डैन क्रि्स्टेनसन
  • नव आलंकारिक कला - फ़र्नांडो बोटेरो, एंटोनियो बर्नी
  • नव अभिव्यक्तिवाद - जॉर्ज बेसलिट्ज़, एन्सलम कीफ़र, फ्रांसिस्को क्लेमेंटे, जीन-माइकल बास्क्वैट
  • नया यथार्थवाद - य्वेस क्लेन, पियरे रेस्टानी, अरमान
  • ओप कला - वसार्ली विक्टर, ब्रिज़ेट रिले, रिचर्ड एनुस्कीविच
  • बाहरी कला - हावर्ड फ़िन्सटर, ग्रैंडमा मोसेस, बॉब जस्टिन
  • फ़ोटोयथार्थवाद - ऑड्रे फ़्लैक, चक क्लोज़, डुएन हैन्सन, रिचर्ड एस्तेस, माल्कॉम मॉर्ले
  • पॉप कला - रिचर्ड हैमिल्टन, रॉबर्ट इंडियाना, जैस्पर जॉन्स, रॉय लिचेनस्टिन, रॉबर्ट रॉसचेनबर्ग, एंडी वरहोल, एड रुस्चा, डैविड हॉकने
  • युद्ध के बाद यूरोपीय आलंकारिक चित्रकला - लुसियान फ़्रेउड, फ्रांसिस बेकन, फ्रैंक ऑरबेच
  • आकार दिए गए कैनवास - ली बोन्टेको, फ्रैंक स्टेला, केनेथ नोलैंड, रॉन डेविस, रॉबर्ट मै‍गोल्ड.
  • सोवियत कला - अलेक्जेंडर डेइनेका अलेक्जेंडर गेरासिमोव, इल्या काबाकोव, कोमर एंड मेलाविड, अलेक्जेंडर ज़ोडनोव, लियोनिद सोकोव
  • स्थानिकवाद - लुसियो फ़ोन्टाना
  • दूरदर्शी कला - अर्न्स्ट फ़ुच्स, पॉल लैफ़ोले, माइकल बोवेन

[संपादित करें]महत्वपूर्ण आधुनिक कला प्रदर्शनियां और संग्रहालय

व्यापक सूची के लिए आधुनिक कला के संग्रहालय देखें.

[संपादित करें]बेल्जियम

  • स्मैक, गेन्ट

[संपादित करें]ब्राज़ील

[संपादित करें]कोलंबिया

[संपादित करें]इक्वाडोर

  • मुसेओ एंट्रोपोलिजिको ये डे कोन्टेम्पोरनियो, गुयाक्विल

[संपादित करें]फिनलैन्ड

  • एम्मा, एस्पो

[संपादित करें]फ्रांस

  • सेंटर जॉर्ज्स पोम्पिडो, पेरिस
  • मुसी डे’ओर्से, पेरिस
  • मुसी डे’आर्ट मॉर्डने डे ला विले डे पैरिस, पेरिस
  • मुसी पिकासो, पेरिस
  • आधुनिक और समकालीन कला का संग्रहालय, स्ट्रासबर्ग

[संपादित करें]जर्मनी

  • डॉक्युमेंटा, कैसल (जर्मनी), आधुनिक और समकालीन कला की पंच वर्षीय प्रदर्शनी
  • लुडविग संग्रहालय, कोलोन
  • पिनाकोथेक डेर मॉडर्ने, म्यूनिख

[संपादित करें]भारत

[संपादित करें]ईरान

[संपादित करें]इटली

[संपादित करें]मेक्सिको

  • म्युज्यो दे आर्टे मॉर्डने, मेक्सिको डी.एफ.

[संपादित करें]नीदरलैंड

[संपादित करें]स्पेन

  • म्युजे डी'आर्टा कॉंटेम्परानी डे बार्सिलोना, बार्सिलोना
  • म्युजे नेसिनल सेंटरो डे आर्टे रेइना सोफिया, मैड्रिड
  • इंस्टिट्यूट वैलेंसिया डा'आर्ट मॉर्डन, वैलेंसिया

[संपादित करें]स्वीडन

[संपादित करें]ब्रिटेन

[संपादित करें]अमेरिका

  • अलब्राइट-नॉक्स आर्ट गैलरी, बफेलो, न्यूयॉर्क
  • आर्ट इंस्टिट्यूट ऑफ़ शिकागो, शिकागो
  • गगेनहेम संग्रहालय, न्यूयॉर्क सिटी और वेनिस(इटली); हाल ही में बर्लिन(जर्मनी), बिलबाओ(स्पेन) और लास वेगास, नेवादा
  • हाई संग्रहालय, अटलांटा, जॉर्जिया
  • लॉस एंजिल्स काउंटी म्युजियम ऑफ़ आर्ट, लॉस एंजिल्स, कैलिफोर्निया
  • मेनिल कलेक्शन, ह्यूस्टन
  • ललित कला संग्रहालय, बोस्टन, मैसाचुसेट्स
  • आधुनिक कला संग्रहालय, न्यूयॉर्क सिटी
  • सैन फ्रांसिस्को आधुनिक कला संग्रहालय, सैन फ्रांसिस्को
  • वाकर कला केन्द्र, मिनीपोलिस
  • व्हिटनी म्युजियम ऑफ़ अमेरिकन आर्ट, न्यूयॉर्क सिटी

[संपादित करें]इन्हें भी देखें

  • आधुनिकतावाद
  • आधुनिक कलाकारों की सूची
  • 20 वीं सदी की महिला कलाकारों की सूची
  • 20 वीं सदी की कला
  • 20 वीं शताब्दी की पश्चिमी चित्रकला
  • कला घोषणापत्र
  • कला आंदोलन
  • कला अवधियां
  • समकालीन कला
  • चित्रकला का इतिहास
  • आधुनिक वास्तुकला
  • उत्तरआधुनिक कला
  • पश्चिमी चित्रकला

[संपादित करें]नोट

  1.  [2] ^ एट्किन्स 1990, पृ. 102.
  2.  [3] ^ गोम्ब्रिच 1958, पृ. 419.
  3.  [4] ^ रसेल टी. क्लेमेंट. फ़ॉर फ्रेंच सिम्बोलिस्ट्स. ग्रीनवुड प्रेस, 1996. पृष्ठ 114.
  4.  [5] ^ " शब्द ’आधुनिक','आधुनिकता’, और ’आधुनिकतावाद’ के बीच के संबंध को इस प्रकार से समझा जा सकता है कि सौंदर्यात्मक आधुनिकतावाद उस अवधि के आधुनिकता की उच्च या वास्तविक विशेषता का एक रूप है, जब सामाजिक, आर्थिक, और सांस्कृतिक जीवन व्यापक रूप से देखा जाए तो आधुनिकता द्वारा परिवर्तित किया गया था... [इसका अर्थ है कि] उन्नीसवीं और बीसवीं सदी के अंत में आधुमिकतम कला को आधुनिक समाज के संदर्भ से बाहर सोचा नहीं जा सकता है. सामाजिक आधुनिकता आधुनिकतावादी कला का घर है, जहाँ कला इसके खिलाफ है." काहून 1996, पृ. 13.
  5.  [7] ^ आर्नासन 1998, पृ. 10.
  6. ↑ ६.० ६.१ ६.२ [8] ^ आर्नासन 1998, पृ. 17.
  7.  [11] ^ "सत्तरहवीं और अठारहवीं सदी के दौरान विश्व को नए तरीके से देखने की लहर उठी, जिसे आगे चलकर नए विश्व , आधुनिक विश्व का निर्माण किया". काहून 1996, पृ. 27.
  8.  [11] ^ फ्रैस्किना और हैरिसन 1982, पृ. 5.
  9.  [13] ^ गोम्ब्रिच 1958, पृ. 358-359.
  10.  [15] ^ कोरिंथ, कस्टर, ब्राउनर, विटाली, और बट्स 1996, पृ.25.
  11.  [16] ^ कोग्नियट 1975, पृ. 61.
  12.  [17] ^ कोग्नियट 1975, पृ 43-49.
  13.  [19] ^ मुलिंस 2006, पृ. 14.
  14.  [21] ^ मुलिंस 2006, पृ. 9.
  15.  [22] ^ मुलिंस 2006, पृ 14-15.

[संपादित करें]सन्दर्भ

  • एरनासन, एच. हार्वर्ड. 1998. हिस्टरी ऑफ़ मॉर्डन आर्ट: चित्रकारी, मूर्तिकला, वास्तुकला, फोटोग्राफ़ी. चौथा संस्करण, डैनियल व्हीलर द्वारा तीसरा संस्करण संशोधित किए जाने के बाद जारी, मरला एफ प्रादर द्वारा जारी. न्यूयॉर्क: हैरी एन अब्राम, IncISBN 0-8109-3439-6; अपर सैडल रिवर, न्यू जर्सी: प्रेंटिस-हॉल. ISBN 0-13-183313-8; लंदन: थेम्स और हडसन. ISBN 0-500-23757-3 [पांचवां संस्करण, पीटर काल्ब, पर सैदल रिवर, न्यू जर्सी: प्रेंटिस हॉल: लंदन: पीयरसन/प्रेंटिस हॉल, २००४ द्वारा संशोधित. ISBN 0-13-184069-X]
  • एट्किन्स, रॉबर्ट. 1990. आर्टस्पीक: समकालीन विचारों, आंदोलनों और चर्चा के शब्दों की एक मार्गदर्शिका. न्यूयॉर्क: एब्बेविल प्रेस. ISBN 1-55859-127-3
  • काहुने, लॉरेंस ई. 1996. फ़्रॉम मॉर्डनिज्म टू पोस्टमॉर्डनिज्म: एक संकलन. कैम्ब्रिज, मास: ब्लैकवेल. ISBN 1-55786-603-1
  • कोग्निएट, रेमंड. 1975. पिसारो. न्यूयॉर्क: क्राउन. ISBN 0-517-52477-5.
  • कोरिंथ, लोविस, पीटर-क्लाऊस कस्टर, लूथर ब्राउनर, क्रिस्टोफ़ विटाली, और बारबरा बट्स. 1996. लोविस कोरिंथ. म्यूनिख और न्यू र्क: प्रेस्टल. ISBN 3-7913-1682-6
  • फ्रैस्किना फ्रांसिस और चार्ल्स हैरिसन (संस्करण). 1982. मॉडर्न आर्ट एण्ड मॉडर्निज़्म: ए क्रिटिकल एंथोलॉजी. द ओपन यूनिवर्सिटी के सहयोग से प्रकाशित. लन्दन: हार्पर एण्ड रो, लिमिटेड, पुनर्मुद्रित, लन्दन: पॉल चैपमैन पब्लिशिंग, लिमिटेड, 1982
  • फ़्रेज़र, नैन्सी. 2001. द पेंगुइन कॉन्सियस डिक्सनरी ऑफ़ इतिहास हिस्टरी. न्यूयॉर्क: पेंग्विन बुक्स. ISBN 0-14-051420-1
  • गोम्ब्रिच, ई. एच. 1958. द स्टोरी ऑफ़ आर्ट. लंदन: फ़ैडन. साँचा:OCLC
  • मुलिंस, कैरलोट. 2006. पेंटिंग पिपल: फ़िगर पेंटिंग टुडे. न्यूयॉर्क: डीएपी ISBN 978-1-933045-38-2

[संपादित करें]अध्ययन हेतु

  • एडम्स, ह्यूग. 1979. मॉर्डन पेंटिंग. [ऑक्सफोर्ड]: फ़ाईडन प्रेस. ISBN 0-7148-1984-0 (cloth) ISBN 0-7148-1920-4 (pbk)
  • चाइल्ड्स, पीटर. 2000. मॉर्डनिज्म लंदन और न्यूयॉर्क: रॉट्लेज़. ISBN 0-415-19647-7 (cloth) ISBN 0-415-19648-5 (pbk)
  • क्राउच, क्रिस्टोफर. 2000. मॉर्डनिज्म इन आर्ट डिज़ाइन एंड आर्किटेक्चर. न्यूयॉर्क: सेंट मार्टिन्स प्रेस. ISBN 0-312-21830-3 (cloth) ISBN 0-312-21832-X (pbk)
  • डेम्पसी एमी. 2002. आर्ट इन द मॉर्डन एरा: ए गाइड टू स्कूल्स एंड मूवमेंट्स. न्यूयॉर्क: हैरी ए अब्राम. ISBN 0-8109-4172-4
  • हंटर, सैम, जॉन जैकोबस, और डैनियल व्हीलर. 2004. आधुनिक कला. संशोधित और अद्यतित तीसरा संस्करण. न्यूयॉर्क: वेन्डम प्रेस [पीयरसन/प्रेंटिस हॉल]. ISBN 0-13-189565-6 (cloth) 0-13-150519-X (pbk)
  • कोलोकोटरोनी, वासिलिकी, जेन गोल्डमैन, और ओल्गा टैक्सिडो (संस्करण). 1998. मॉर्डनिज्म: एन एंथोलॉजी ऑफ़ सोर्सेस एंड डॉक्युमेंटस. शिकागो: यूनिवर्सिटी ऑफ़ शिकागो प्रेस. ISBN 0-226-45073-2 (cloth) ISBN 0-226-45074-0 (pbk)
  • ओज़ेनफ़ैंट, एमेडी. 1952. फ़ाउंडेशन ऑफ़ मॉर्डन आर्ट. न्यूयार्क: डावर पब्लिकेशंस. साँचा:OCLC

[संपादित करें]बाहरी लिंक्स

Commons-logo.svg
विकिमीडिया कॉमन्स पर:से संबंधित मीडिया है।
Commons-logo.svg
विकिमीडिया कॉमन्स पर:से संबंधित मीडिया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
GHAZIABAD, Uttar Pradesh, India
कला के उत्थान के लिए यह ब्लॉग समकालीन गतिविधियों के साथ,आज के दौर में जब समय की कमी को, इंटर नेट पर्याप्त तरीके से भाग्दौर से बचा देता है, यही सोच करके इस ब्लॉग पर काफी जानकारियाँ डाली जानी है जिससे कला विद्यार्थियों के साथ साथ कला प्रेमी और प्रशंसक इसका रसास्वादन कर सकें . - डॉ.लाल रत्नाकर Dr.Lal Ratnakar, Artist, Associate Professor /Head/ Department of Drg.& Ptg. MMH College Ghaziabad-201001 (CCS University Meerut) आज की भाग दौर की जिंदगी में कला कों जितने समय की आवश्यकता है संभवतः छात्र छात्राएं नहीं दे पा रहे हैं, शिक्षा प्रणाली और शिक्षा के साथ प्रयोग और विश्वविद्यालयों की निति भी इनके प्रयोगधर्मी बने रहने में बाधक होने में काफी महत्त्व निभा रहा है . अतः कला शिक्षा और उसके उन्नयन में इसका रोल कितना है इसका मूल्याङ्कन होने में गुरुजनों की सहभागिता भी कम महत्त्व नहीं रखती.